Powered by Blogger.

अब ना होंगे खर्राटें, और ना ही होगी आपकी नींद ख़राब-Now no More Snoring Nights

snoring-treatment-image
क्या खर्राटों ने रात की नींद उदा दी है ?
Snoring यानि की खर्राटें , एक सामान्य सी बीमारी है, जो अधिकांश लोगों में देखने को मिल जाती है . अब तो ये स्थिति आ गयी है,की कभी कभी किसी किसी बच्चे में भी ये समस्या देखने को मिल जाती है. वैसे तो ये कोई गंभीर समस्या बिलकुल नहीं है,पर इसे नज़रंदाज़ भी नहीं करना चाहिए.


क्या है खर्राटों की वजह ?

असल में खर्राटें लेने का जो कारण है, वो ये है की जब हम सोते हैं , उस समय हमारी श्वशन नलिका में रुकावट हो जाती है, जिससे सांस लेने में दिक्कत होती है, और हमारे मुह से खर्राटें निकलने की आवाज आने लगती है.
जब तक हम जागे हुए होते हैं, उस समय तक तो सब कुछ सही ही होता है, परन्तु जब हम सोते हैं तो हमारी शरीर की कई मान्शपेशियाँ शिथिल हो जाती हैं, और गले के अन्दर जो मान्शपेशियाँ होती हैं, वो मुड़ जाती हैं , इजसे अन्दर आने वाली वायु को अवरोध उत्पन्न होता है, और वही वायु परावर्तित हो के वापस लौटती है, जिससे वायु में ध्वनि उत्पन्न होती , जिसे हम खर्राटे कहते हैं.

वैसे खर्राटे लेने की मुख्य वजह जो अब तक के शोध से सामने आई हैं, वो है - धुम्रपान, नशा,अत्यधिक मात्र में नींद की गोलियों का सेवन या गले में कोई अंदरूनी समस्या .


खर्राटों का सबसे सटीक समाधान 

वैसे तो खर्राटों के समाधान आयुर्वेद और योग में भी बताये गए हैं, परन्तु समाधान से पहले इसके एक मुख्य पहलु पे भी नज़र जरुर डालेंगें. " मोटापा " एक ऐसी बीमारी है जो सैकड़ों रोगों का घर है. खर्राटों से निजात पाने के लिए हमें अपने वज़न पे भी नियंत्रण रखना होता है,  

योग और प्राणायाम के जरिये हम सेहत के कुछ ऐसे सुखद अनुभव स्वयं बिना किसी खर्च के पा सकते, जिनके इलाज़ तो अचूक हैं ही, साथ ही कोई साइड-इफ़ेक्ट भी नहीं है. अनुलोम-विलोम एक ऐसा ही प्राणायाम है, जिसे हम रोजाना यदि सही ढंग से करें, तो हमरे स्वांश नलिका से सम्बंधित सारी समस्या अपने आप ही दूर हो जाती है.इतना ही नहीं, अनुलोम-विलोम से हमारे फेफड़ों की क्षमता भी बढती है.

दूसरा उपाय हम सोते समय ये कर सकते हैं, कि सोते समय एक अच्छा सा तकिया अपने सर के नीचे जरूर रखें.

और यदि इन सब उपायों को करने के पश्चात भी समस्या हल न हो, तो हो सकता है कि समस्या का कारण कुछ और ही हो , अतः विशेष गंभीर परिस्थितियों का इन्तेजार किये बगैर किसी अछे से डॉक्टर से सही सलाह लें और जांच कराएँ.

उम्मीद है आपको हमारा ये खर्राटों से मुक्ति के उपाय जरुर पसंद आये होंगें. यदि आपको लाभ हो तो जरुर ये काम के नुश्खे अपने मित्रों और परिवार के सदस्यों को बताएं और शेयर करते रहें.