Powered by Blogger.

Mysterious places in India, भारत के कुछ अबूझ रहस्यमयी स्थल

Mysterious-places-in-India-image
भारत के रहस्यमयी स्थल 
मित्रों, आज हम आपको भारत की उन जगहों के बारे में आपको बताने जा रहे हैं, जिनकी गुत्थी विज्ञान भी आज तक नहीं सुलझा पाया है.


1 . कुम्भलगढ़ का किला, राजस्थान 

kumbhalgarh-fort-rajsthan-image
कुम्भलगढ़ का किला 
कुम्भलगढ़ का किला राजस्थान के राजसमन्द जिले में है. राजसमन्द उदयपुर से सटा हुआ जिला है.
ये किला एक विश्व धरोहर है. इसे सन 2013 में UNESCO के द्वारा विश्व धरोहर घोषित किया गया.
कुम्भलगढ़ उदयपुर से 82 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है. इस किले की दीवारों की कुल लम्बाई 38 किलोमीटर तक है, जो कि विश्व की सबसे लम्बी दीवार "चीन की दीवार" के बाद दुसरे नंबर पे आती है. साथ ही साथ ये किला राजस्थान के दुसरे सबसे बड़े किलों में भी शुमार है. ये किला " राणा कुम्भ " के द्वारा बनवाया गया था. 
ये पहाड़ों पे बना बना हुआ किला है जिसकी समुद्र तल से ऊंचाई 1100 मीटर है. ये अरावली पर्वत श्रृंखला के अंतर्गत आती है. इस किले से अरावली पर्वत श्रृंखला को काफी सटीकता से देखा जा सकता है. इस किले से काफी दुरी तक देखा जा सकता है, जिनमे " थार के मरुस्थल और दूर दूर तक फैली अरावली पर्वत श्रृंखलाएं" शामिल हैं.


2. कुलधरा - एक भुतहा गाँव

कुलधरा - एक भुतहा गाँव


कुलधरा राजस्थान के जैसलमेर के रेगिस्तान में एक परित्यक्त गाँव है जो लगभग पिछले 800 सालों से बंजार है. यहाँ कोई आबादी नहीं बसती. तेरहवीं शताब्दी तक ये एक खुशहाल गाँव हुआ करता था. यहाँ पालीवाल ब्राह्मण रहा करते थे. परन्तु एक समय कुछ ऐसा हुआ कि - वहां का शाशक पालीवाल ब्राह्मणों के मुखिया की पुत्री से विवाह करना चाहता था. परन्तु पालीवाल ब्राह्मण इसके विरुद्ध थे तो उन्होंने रात में मंत्रणा की और रातों रात घर छोड़ के चले गए. गाँव छोड़ने से पहले उन्होंने इस गाँव को भी अभिशप्त कर दिया कि उनके सिवा कोई भी इस गाँव में निवास नहीं कर सकता. बस तबसे आज तक ये गाँव बंजर और वीरान है. आज भी यदि कोई यहाँ रात में रुकने की कोशिश करता है तो उसे परालौकिक शक्तियों का आभास होता है.


3. भानगढ़ का किला, राजस्थान 

bhangarh-fort-rajasthan-image
भानगढ़ का किला
भानगढ़ का किला भारत के कई रहस्यमयी जगहों में से एक है. यहाँ कहा जाता है की यहाँ आज भी भूतों का डेरा है. इस किले के पीछे की कहानी ऐसी बताई जाती है कि यहाँ आज भी इस किले की राजकुमारी रत्नावती की आत्मा भटकती है. इस किले के पीछे की कहानी ये है कि एक तांत्रिक जिसका नाम " सिन्धु सेवड़ा " था, वो राजकुमारी के रूप यौवन से बहुत ही ज्यादा प्रभावित था और उसने काले जादू का इस्तेमाल करके राजकुमारी को पाना चाहा था , परन्तु उसके काले जादू का पता राजकुमारी को चल गया था , जिसके फलस्वरूप तांत्रिक के ऊपर काला जादू उल्टा पड़ गया और उसकी मौत हो गयी, पर उस तांत्रिक ने मरने से पहले एक श्राप दिया की किले का कोई भी व्यक्ति जीवित नहीं रहेगा और उनकी आत्माओं को मुक्ति भी नहीं मिलेगी. और हुआ भी यही. अजबगढ़ और भानगढ़ के राजाओं के बीच युद्ध हुआ और एक एक कर के राजकुमारी रत्नावती समेत सभी की मौत हो गयी. आज भी इस किले से सम्बंधित कई रहस्यमयी आवाजों और घटनाओं को महसूस किया गया है.