Powered by Blogger.

जानें पृथ्वी के सबसे बड़े रहस्य बरमूडा ट्रायंगल के बारे में , know the mystery of Bermuda triangle

mystery-of-bermuda-triangle-image
बरमूडा त्रिकोण 
बरमूडा त्रिकोण अटलांटिक महासागर में स्थित अति रहस्यमयी जगह है , जो तीन जगहों से घिरी हुई है, जो हैं - मिआमी, बरमूडा और पुएर्टो रिको . 

यहाँ ना जाने कितने  ही समुद्री जहाज़ और हवाई जहाज़ बेहद ही रहस्यमयी ढंग से गायब हो चुके हैं. बड़े ही अस्चार्य्जनक ढंग से कई जहाज़ और वायुयान गायब हुए हैं, जिनका आज तक कोई भी पता नहीं चल पाया है. जो भी जहाज़ इस रहस्यमयी क्षेत्र में गए , वो आज तक दुनिया की नज़रों से ओझल हो गए, उनका कोई भी अता-पता नहीं चला . यहाँ तक की उनके कोई अवशेष भी नहीं मिल पाये.

हालाँकि इस सम्बन्ध में कई सारे तर्क कई बुद्धिजीवियों ने दिए, पर कोई भी तर्क सही ढंग से इन आश्चर्यजनक रूप से गायब घटनायों को साबित नहीं कर पाया. 

बरमूडा त्रिकोण का कुल क्षेत्रफल 500,000 वर्ग मील का है . 

क्रिस्टोफर कोलंबस जब अपने सम्पूर्ण विश्व की यात्रा पे निकले थे, तब उन्होंने लिखा है कि, एक रात समुद्र में एक बड़ा सा आग का गोला गिरा और उसके कुछ हफ़्तों के बाद एक विचित्र सी पतली सी सीधी रौशनी दूर से दिखाई दी थी . उन्होंने अपने कम्पास की विचित्र सूचनाओं के बारे में भी लिखा था, की उनके कंपास की सुइयां सही से दिशा नहीं दिखा पा रही थी. 


बरमूडा त्रिकोण से सम्बंधित सिद्धांत और अपवाद 


बरमूडा त्रिकोण के बारे में कईयों का ये कहना है कि ये किसी परग्रही जीव का काम है.कुछ कहते हैं की ये अटलांटिस और भयानक समुद्री जीवों का काम है, जिनके पास समय को अपने हिसाब से मोड़ सकने की क्षमता है और वे धरती के गुर्त्वाकर्षण को भी प्रभवित कर सकते हैं. कुछ बुद्धिजीवियों का ये मानना है कि इस जगह पे चुम्बकीय असमानता होने की वजह से ऐसा होता है. कुछ समुद्री ज्वार और समुद्र के गर्भ में से निकलती हुयी मीथेन गैस को दोषी मानते हैं .
जितने लोग उतने सिद्धांत सामने आये हैं, पर कोई भी सिद्धांत सारी घटनाओं पे एक समान लागू नहीं होता. जो भी हो, सही कारण आखिर क्या है , खैर ये तो वक़्त ही बताएगा . फिलहाल तो बस इतना ही, आगे बढ़ते विज्ञान के दौर में कई राज , अब राज नहीं रह गए , वक़्त के साथ इस राज़ से भी पर्दा उठ ही जायेगा .