Powered by Blogger.

इस दिशा में घडी लगायें और खोलें सौभाग्य के दरवाज़े

सही दिशा में लगी घड़ी खोल सकती है सौभाग्य के द्वार 


घड़ी से खोलें सौभाग्य के द्वार-image
सही दिशा में लगायें घड़ी 
अक्सर लोगों को आपने ये कहते हुए सुना होगा कि " यार , मेरा टाइम ही ख़राब चल रहा है ". या फिर किसी को ये कहते जरुर सुना होगा कि " मेरा समय ठीक नहीं चल रहा ".

ज्योतिष और वास्तु की बात करें, तो ये अद्वितीय शास्त्र हमें ये ज्ञान देते हैं कि चाहे कैसी भी विपरीत परिस्थितियाँ क्यूँ ना हों, ज्योतिष और वास्तु की सहायता से इन दोषों को कम किया जा सकता है और अपने विपरीत परिस्थितयों को अपने अनुकूल बनाया जा सकता है .


क्या आपकी घड़ी गलत दिशा में है ?

गलत-दिशा-में-घड़ी-image
गलत दिशा में घड़ी 

ज्योतिष और वास्तु के अनुसार घर और ऑफिस में यदि सही जगह पे घड़ी लगायी जाये तो इनके बड़े अच्छे परिणाम देखने को मिले हैं , वहीँ ये भी देखा गया है कि यदि वास्तु के नियमों के प्रतिकूल यदि घड़ी लगायी जाये तो नुक्सान भी उठाना पड़ा है, या तो उस जगह कुछ न कुछ नकारात्मकता व्याप्त हो ही जाती है .


वास्तु शास्त्र के अनुसार घर या ऑफिस की दक्षिणी दीवार पर घड़ी नहीं होनी चाहिए . चूँकि दक्षिण दिशा यम की दिशा मानी गयी है . यम को हिन्दू शास्त्रों में मृत्यु का देवता माना गया है .

यदि आपके साथ भी भाग्य और समय साथ न दे रहे हों तो निम्नलिखित उपायों को और वास्तु के सही सही नियमो को जाने और अपने घर और वास्तु को पूर्णतः वास्तु के अनुकूल करें और सकारात्मक शक्तियों की वृद्धि करें .


आपकी घड़ी और फेंगशुई 

घड़ी-और-फेंगशुई-का-सम्बन्ध-image
घड़ी और फेंगशुई 
सिर्फ भारतीय वास्तु शास्त्र ही नहीं , चीनी फेंगशुई में भी घर और ऑफिस में घड़ी को लगाने की दिशा और उसके सही स्थिति पर भी भी विशेष जोर दिया गया है . घर और ऑफिस में उपयोग की जाने वाली घड़ियों का हमारे व्यक्तिगत जीवन और उर्जा से विशेष सम्बन्ध होता है.

फेंगशुई के हिसाब से दक्षिण दिशा स्थिरता को सूचित करता है . इस दिशा में घड़ियाँ लगाने से प्रगति के मार्ग में बढ़ाएं आती हैं. प्रगति के मार्ग में स्थिरता आने लगती है. साथ ही परिवार के सदस्यों के प्रोफेशन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है .

दिशा दोष निवारण उपाय 

दक्षिण-दिशा-का-दोष-दूर-करें-image
वास्तु दोष निवारण 
ज्योतिष और वास्तु शास्त्र के अनुसार आप अपने घर की दक्षिण दिशा की शुभता बढ़ाने के लिए घर के मुखिया की तस्वीर लगा सकते हैं, क्यूंकि ये दिशा घर के मुख्या व्यक्ति का होता है . ऐसा करने से मुख्या प्रधान व्यक्ति का स्वस्थ्य सदैव अच्छा रहता है .

क्या करें और क्या न करें ?

साथ ही साथ आप निम्नांकित चीजों का भी खास ध्यान रखें.

- दक्षिण दिशा में घड़ी कदापि न लगायें .
- घर के मुख्य दरवाज़े के ऊपर भी घड़ी कभी न लगायें.
- बंद पड़ी हुयी घड़ियों को यथाशीघ्र सही करवाएं .
- यदि घड़ी बिलकुल ख़राब हो गयी हो तो घर में ना रखें .
- किसी भी रिश्तेदार को भूल कर भी गिफ्ट में घड़ी ना दें .
- यदि घड़ी का समय आगे या पीछे हो गया हो तो उसे सही समय से मिला लें .
- घड़ी का समय आगे या पीछे न रखें .
- दीवार घड़ी पर कभी धुल न जमने दें, समय समय पे उसे साफ़ करते रहा करें .
- घर का माहौल खुशनुमा बनाये रखने के लिए उन घड़ियों को लगायें जिनकी संगीत मधुर हो .
- सोते समय तो हरगिज़ भी तकिये के नीचे कोई भी घड़ी न रखें .
- घर के पूर्व, उत्तर और पश्चिम में ही घड़ी लगायें .
-घर के ड्राइंग रूम में पेंडुलम वाली घड़ियाँ लगाने से सौभ्य वृधि होती है .
- गोल, आयताकार घड़ियाँ शुभ प्रभाव लाती हैं.

निश्चित रूप से आप यदि उपरोक्त कथनों का सही सही क्रियान्वन करेंगें , तो सौभग्य आपके घर के घर को छोड़ के जा ही नहीं सकती. आपके घर में सकारात्मक माहौल हमेशा व्याप्त रहेगा. इसलिए ज्योतिष और वास्तु के घड़ी से सम्बंधित इन नियमो का पालन करें और अपने लाभ हमसे और अपने शुभचिंतकों और मित्रों से अवश्य शेयर करें.